सोमवार, 1 फ़रवरी 2010

बोझ

मिट्टी भरा तसला सिर पर
लिए  खड़ी है वह
भाव विहीन चेहरा..........
गहरी आंखे जिनमे न जाने
क्या छिपा रही है.............
उसने, जो सृष्टी को
रचने वाली है ,पत्थर
के घर बनाने कि ठानी है,
उसका अंश जो धूल धूसरित
है ,उसे आँखों से ओझल
कैसे करे ,उसे और अपने
को एक डोर से बाँधने
के लिए ही तो उठा  रही है
यह बोझ ..............

9 टिप्‍पणियां:

Unknown ने कहा…

बहुत बढ़िया कविता ..मेहनत और आशा की झलक है इसमें

संजय भास्‍कर ने कहा…

आपकी रचना कहीं ना कहीं बहुत भीतर तक छू गयी ।

संजय भास्‍कर ने कहा…

WAH...........BEHTEEN PRASTUTI

Ravi Rajbhar ने कहा…

Bahut khub...tarif ko shabd nahi..aap bahut achchha likhtin hain...badhai

R.K.Sharma ने कहा…

लिखने के लिये बहुत कुछ है ।परन्तु छाया चित्र ने अनेक के सामने प्रश्न खडे किये है देश के नेता इस सत्य से अनजान है कार्य करते रहें

Dinbandhu Vats ने कहा…

bahut achhe.

संजय भास्‍कर ने कहा…

बहुत खूब, लाजबाब !

Rishikant ने कहा…

Thanks for publishing this amazing article. I really big fan of this post thanks a lot. Recently i have learned about News in Hindi CG which gives a lot of information to us.

Visit them and thanks again and also keep it up...

Benefits of Cold Pressed Juices ने कहा…

Thanks for sharing this info.
DOOH Trends in 2021
Locations for Pre Wedding Shoots in Indore