सोमवार, 15 फ़रवरी 2010

बैंगन पर बवाल

अब तक रसोई में रहने वाला बैंगन अचानक चर्चा में आ गया है.यह चर्चा सत्ता के गलियारे से लेकर पर्यावरणविदो एवं वैज्ञानिको के बीच भी हो रही है .........यह चर्चा बी टी बैगन को लेकर हो रही है ..........
                                                       बी टी बैगन जेनेटिकली मोडीफाइड खाद्य फसल है.जेनिटिकली मोडीफाइड फसले यानि ऐसी फसले जिनके डी एन ए में मामूली से परिवर्तन कर के उनमे मनचाहा परिवर्तन और आकार प्रकार में गुणवत्ता प्राप्त की जा सकती है. जेनेटिकली मोडीफाइड फसलो से जुड़ा मामला १९९६ में पहली बार आया था.
                                                            बी टी बैगन से जुड़े मुद्दे पर बवाल इसलिए हुआ है क्यूकि बी टी बैगन को खाने से मनुष्य पर क्या असर पड़ेगा? पर्यावरण पुरोधाओ को डर है कि निषेचित जीन अपने कार्य से इतर कारवाई कर सकता है जिस कारण अन्य पोधो को भी नुकसान पहुचने का खतरा बना हुआ है. वैसे भी हमारे पर्यावरण को विज्ञानं और तकनीकी ने किस क्षति पहुचाई है यह बात किसी से छिपी नहीं है .........
                                                              वैसे तो परम्परागत बैगन के बाजार से जाने पर डायबिटीज टाइप २ पर लगाम
अवश्य लगेगी  लेकिन  इसकी  कोई  गारंटी नहीं है कि बी टी बैगन परेशानिया नहीं खड़ी करेगा .........क्या उससे कोई स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्या  नहीं खड़ी होगी यह एक विचार का मुद्दा है .............
                                                भारत में बी टी खाद्यान पर उठी बहस को लेकर पर्यावरण मंत्रालय ने निर्णय लिया है कि वह फ़िलहाल बी टी बैगन की खेती को रोके रखेगी.उसके बाद इस पर किस प्रकार का कानून बनता है और उसके लागू होने के बाद क्या परिणाम होगा यह तथ्य तो भविष्य के गर्भ में है तब तक हम अपने परम्परागत बैंगन से आनन्दित होते है ...........

8 टिप्‍पणियां:

संजीव तिवारी .. Sanjeeva Tiwari ने कहा…

बैंगन पर बवाल ही बवाल है
बैगनी जेबे हो गई लाल है

देवेश प्रताप ने कहा…

मैं तो भी तक ये बीटी बैगन का मामला समझ नहीं आया था .....लकिन आपने इसे लेख से स्पष्ट कर दिया ......धन्यवाद ....वैसे मुझे तो बैगन बिलकुल नहीं पसंद

vikas ने कहा…

Such kaha kisi ko pta nahi hai,achhi jaankari diya aapne,bahut bahut aabhar.
VIKAS PANDEY
http://vicharokadarpan.blogspot.com/

संजय भास्कर ने कहा…

i like bangan
khas kar bharta began ka

संजय भास्कर ने कहा…

मैं तो भी तक ये बीटी बैगन का मामला समझ नहीं आया था .....लकिन आपने इसे लेख से स्पष्ट कर

अजय कुमार झा ने कहा…

एक दम बैड टेस्ट बी टी ..बैंगन है जी , कसम से ...आपने दुरूस्त फ़रमा रहे हैं आप .
अजय कुमार झा

Ravi Rajbhar ने कहा…

Very...nice

meri nazar me ने कहा…

han, sahi kahan aapne