बुधवार, 27 जनवरी 2010

फिर मिले सुर मेरा तुम्हारा

मिले सुर मेरा तुम्हारा तो सुर बने हमारा ...........यह गीत २६ जनवरी को एक नए अवतार में आया, परिस्थितिया बदली लेकिन शब्द और भावनाए वैसी ही है .देश के विभिन्न  हिस्सों में तेरह प्रमुख एतिहासिक शहरो में साठ दिनों तक फिल्माए इस गाने में देश की एकता और अखंडता की उज्ज्वल तस्वीर प्रस्तुत की गई है .पिछले कुछ दशको में बहुत सी चीजे बदली विकास ,समृधि और आर्थिक परिदृश्य लेकिन अगर कुछ नहीं बदला तो हमारी एक होने की भावना जो निरंतर बलवती होती  गई है ................................
                          मिले सुर मेरा तुम्हारा गीत जूम टी व़ी और टाइमस ऑफ़ इंडिया के सौजन्य से फिर से रिकार्ड किया गया एवं नई पीढ़ी के कलाकारों के साथ इसे फिर से फिल्माया गया है .पीयूष पाण्डेय द्वारा रचित यह गीत सबसे पहले १५ अगस्त १९८८ को दूरदर्शन पर प्रसारित किया गया था .इस गीत की लोकप्रियता का अंदाजा इस बात से लाया जा सकता है कि आज भी उसके बोल एवं धुनें लोगो को याद है ........देश क़ी एक पीढ़ी इस गीत को सुनते हुए बड़ी हुई  है और उससे उसकी भावनाए जुडी है ................
                                          बालीवुड के मशहूर सितारों अमिताभ बच्चन से लेकर प्रियंका चोपड़ा तक ने इसमे अभिनयकिया और सभी ने गर्व का अनुभव किया है ,हो भी क्यों न    यह हमारी देश क़ी एकता और अखंडता क़ी बात है .यह गीत देश क़ी धर्मनिरपेक्ष छवि को बखूबी प्रस्तुत करता है जहा न कोई  धर्म, न कोई जाति बस है तो एक पहचान है कि हम हिन्दुस्तानी है कही भी हो सदैव एक डोर से बंधे रहेगे ............
इस नए गाने का विडियो देखें के लिए यहाँ क्लिक करें

2 टिप्‍पणियां:

VICHARO KA DARPAN ने कहा…

mile sur mera tumhara .....bachpan se ye sunte arahe hai doordarshan pe......iska naya avtaar thode din baad hi kaano ko bhayega

meri najar mei ने कहा…

thik kaha apne.yah bat unlogo ko bhi sochni chahiye jo samaj me bhed paida karate hai.